Punjabi English Monday, October 25, 2021
BREAKING NEWS
विदेशी कंपनियों द्वारा निवेश करने के लिए पंजाब बना पसन्दीदा गंतव्यमुख्यमंत्री द्वारा दुनिया के नामी उद्योगपतियों को राज्य की तरक्की और खुशहाली में भागीदार बनने का न्योताकेंद्रीय समिति में माकपा ने किया कांग्रेस से गठबंधन पर विचारहवाई अड्डों पर एन.आर.आईज़ को होती मुश्किलों के मौके पर ही फ़ोन पर हल के लिए कॉल सेंटर स्थापित किया जायेगा - परगट सिंहमुख्यमंत्री के दिशा-निर्देशों पर 2 किलोवाट से कम लोड वाले 96911 घरेलू उपभोक्ताओं के 77.37 करोड़ रुपए के बिजली बिलों के बकाए माफपंजाब सरकार ने लखीमपुर खीरी में घटी दर्दनाक घटना में जान गंवाने वाले किसानों और पत्रकार के पारिवारिक सदस्यों को बाँटे 2.50 करोड़ के चैक

साहित्य

आर्यन्स में "ग्रामीण समाज के उत्थान के लिए कृषि का महत्व" पर वेबिनार आयोजित

August 05, 2021 02:50 PM

मोहाली 5 अगस्त

आर्यन्स ग्रुप ऑफ कॉलेजिज, राजपुरा, नजदीक चंडीगढ़ के कृषि विभाग द्वारा "ग्रामीण समाज के उत्थान के लिए कृषि विस्तार की भूमिका" पर एक वेबिनार का आयोजन किया गया। डॉ. रुषिकेश, वैज्ञानिक, कृषि विस्तार, एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) ने आर्यन्स ग्रुप के बी.एससी ऑनर्स सहित  डिप्लोमा कृषि छात्रों को संबोधित किया। आर्यन्स ग्रुप के चेयरमैन डॉ अंशु कटारिया ने वेबिनार की अध्यक्षता की।

डॉ. रुषिकेश ने छात्रों के साथ बातचीत करते हुए कहा कि ग्रामीण समुदायों में विस्तार कार्यक्रम, ग्रामीण विकास में किसानों को जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कृषि में इन कार्यक्रमों की काफी हद तक किसानों की जरूरतों को पूरा करने की उनकी क्षमता पर निर्भर करती है। 

छात्रों के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि ग्रामीण विस्तार कार्यक्रम रॊजगार का स्थायी समाधान प्रदान कर सकते हैं। रुषिकेश ने समझाया कि किसानों की जरूरतों और एक विशेष क्षेत्र की गतिशीलता को ध्यान में रखते हुए उपयुक्त दृष्टिकोण का चयन किया जाना चाहिए।

आर्यन्स ग्रुप के चेयरमैन डॉ अंशु कटारिया ने कहा कि विस्तार शिक्षा का उद्देश्य किसान के कृषि कार्यों में सुधार के लिए कृषक समुदाय के दृष्टिकोण को बदलना है। तेजी से बदलती कृषि प्रौद्योगिकी के साथ तालमेल बिठाने के लिए विस्तार शिक्षा द्वारा किसानों को शिक्षित करना एक सतत प्रक्रिया है।

प्रो. बी.एस. सिद्धू , आर्यन्स ग्रुप के निदेशक ने बातचीत करते हुए कहा कि कृषि विस्तार मे ग्रामीण लोगों के जीवन स्तर में सुधार करने की क्षमता है। हम ग्रामीण लोगों को फसल उत्पादकता में सुधार के साथ-साथ ग्रामीण लोगों के जीवन स्तर में सुधार के लिए नवीनतम तकनीकों से अवगत करा सकते हैं।

सुश्री स्नेहा भारद्वाज, एचओडी, एग्रीकल्चर इस सत्र की मॉडरेटर थीं। इस वेबिनार मे फैकल्टी सदस्य सुश्री कनिका, सुश्री सलोनी, श्री राकेश आदि उपस्थित रहीं।



Have something to say? Post your comment