Punjabi English Sunday, October 24, 2021
BREAKING NEWS
विदेशी कंपनियों द्वारा निवेश करने के लिए पंजाब बना पसन्दीदा गंतव्यमुख्यमंत्री द्वारा दुनिया के नामी उद्योगपतियों को राज्य की तरक्की और खुशहाली में भागीदार बनने का न्योताकेंद्रीय समिति में माकपा ने किया कांग्रेस से गठबंधन पर विचारहवाई अड्डों पर एन.आर.आईज़ को होती मुश्किलों के मौके पर ही फ़ोन पर हल के लिए कॉल सेंटर स्थापित किया जायेगा - परगट सिंहमुख्यमंत्री के दिशा-निर्देशों पर 2 किलोवाट से कम लोड वाले 96911 घरेलू उपभोक्ताओं के 77.37 करोड़ रुपए के बिजली बिलों के बकाए माफपंजाब सरकार ने लखीमपुर खीरी में घटी दर्दनाक घटना में जान गंवाने वाले किसानों और पत्रकार के पारिवारिक सदस्यों को बाँटे 2.50 करोड़ के चैक

स्वास्थ्य/परिवार

टीकाकरण के बिना कोविड से मरने की आशंका 10 गुना अधिक : शोध

September 12, 2021 08:15 PM

वाशिंगटन, 12 सितंबर

अमेरिका में जो बाइडेन प्रशासन ने अधिक से अधिक लोगों को टीका लगवाने के प्रयास तेज कर दिए हैं, वहीं यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने तीन नए अध्ययनों में कुछ आबादी में प्रतिरक्षा कम होने पर चिंताओं के बीच भी मृत्युदर को रोकने में कोविड शॉट्स के महत्व पर जोर दिया गया है। अध्ययन का निष्कर्ष एजेंसी की रुग्णता और मृत्युदर साप्ताहिक रिपोर्ट में आया है।

एक अध्ययन से पता चला है कि जिन लोगों को नोवेल कोरोनावायरस बीमारी का टीका नहीं लगाया जाता है, उनके शॉट लेने वालों की तुलना में संक्रमण से मरने की संभावना 10 गुना अधिक होती है।

निष्कर्षो से पता चला है कि वर्तमान में उपलब्ध कोविड-19 जैब्स अधिकांश लोगों को अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु के खिलाफ मजबूत सुरक्षा प्रदान करते हैं, यहां तक कि डेल्टा वृद्धि के दौरान भी। हालांकि, टीकाकरण की स्थिति की परवाह किए बिना, वृद्धावस्था समूहों में उच्च अस्पताल में भर्ती और मृत्युदर देखी जाती है।

अध्ययन के लिए, सीडीसी ने 13 राज्यों और शहरों में 4 अप्रैल से 17 जुलाई तक रिपोर्ट किए गए 6, 00, 000 से अधिक कोविड-19 मामलों, अस्पताल में भर्ती होने और 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों की मृत्यु के आंकड़ों का विश्लेषण किया।

संक्रमण के खिलाफ टीके की प्रभावशीलता 90 प्रतिशत से गिर गई, जबकि डेल्टा ने अभी तक महत्वपूर्ण कर्षण प्राप्त नहीं किया था, जून के मध्य से जुलाई के मध्य तक 80 प्रतिशत से कम हो गया, जब डेल्टा ने वायरस के अन्य सभी प्रकारों से मुकाबला करना शुरू कर दिया। वाशिंगटन पोस्ट ने बताया कि पूरी अवधि के दौरान अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु के खिलाफ प्रभावशीलता में बमुश्किल कोई गिरावट देखी गई।

एमोरी यूनिवर्सिटी के एक वायरोलॉजिस्ट मेहुल सुथर ने कहा, "अभी भी 80 प्रतिशत हासिल करना एक बहुत अच्छी संख्या है। ये टीके अभी भी एक अत्यधिक पारगम्य संस्करण के खिलाफ हैं।"

एक दूसरे अध्ययन से पता चला है कि कोविड-19 के लिए मॉडर्ना का टीका फाइजर या जॉनसन एंड जॉनसन की तुलना में सार्स-कोव 2 वायरस के डेल्टा संस्करण के खिलाफ काफी अधिक प्रभावी है। इसने सुझाव दिया कि मॉडर्न 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के वयस्कों में अस्पताल में भर्ती होने से रोकने में 95 प्रतिशत प्रभावी था, जबकि फाइजर 80 प्रतिशत प्रभावी और जॉनसन एंड जॉनसन 60 प्रतिशत प्रभावी रहा।

अमेरिका में इंडियाना विश्वविद्यालय के शोधकर्ता शॉन ग्रैनिस ने कहा, "ये वास्तविक दुनिया के आंकड़े बताते हैं कि नए कोविड-19 संस्करण की उपस्थिति में भी, कोविड-19 संबंधित अस्पताल में भर्ती और आपातकालीन विभाग के दौरे को कम करने में टीके अत्यधिक प्रभावी हैं।"

जब डेल्टा वेरिएंट प्रमुख तनाव बन गया, तब अध्ययन के लिए टीम ने जून, जुलाई और अगस्त 2021 के दौरान नौ राज्यों से 32, 000 से अधिक 'चिकित्सा मुठभेड़ों' का विश्लेषण किया।

Have something to say? Post your comment

स्वास्थ्य/परिवार

मुख्यमंत्री द्वारा आँखों की रौशनी वापिस पा सकने वाले नेत्रहीनों का इलाज करवाने का ऐलान

उप मुख्यमंत्री द्वारा ड्रग कंट्रोल अधिकारियों को नशे की आदत डालने वाली दवाओं के खतरे से निपटने की हिदायत

सांसद मनीष तिवारी ने किया लायंस क्लब द्वारा आयोजित कोरोना टीकाकरण कैंप का उद्घाटन

एस.एस.बी.वाई. के अधीन सूचीबद्ध अस्पतालों के हित सुरक्षित किए जाएंगे

स्वास्थ्य विभाग में किसी भी किस्म का भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा: सोनी

अल्जाइमर रोग के संभावित कारण की पहचान की

डीसीजीआई ने कोवैक्सिन और कोविशील्ड के मिश्रण पर अध्ययन को मंजूरी दी

पंजाब में गर्भवती महिलाओं के लिए विशेष टीकाकरण मुहिम जारी : बलबीर सिद्धू

महिला ने पति के फेफड़े बदलवाने के लिए 1 करोड़ की मदद खातिर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया

लंबे समय तक चलने वाले कोविड लक्षण बच्चों में दुर्लभ: अध्ययन